गौण्डादेश

लगातार हरे प्रतिबंधित बृक्षो की हो रही कटान,जिम्मेदार कौन* *विभागीय मिलीभगत से लकड़ी ठेकेदारों की बल्ले-बल्ले,35 पेड़ो पर चला आरा

 

 

लगातार हरे प्रतिबंधित बृक्षो की हो रही कटान,जिम्मेदार कौन

  1. *विभागीय मिलीभगत से लकड़ी ठेकेदारों की बल्ले-बल्ले,35 पेड़ो पर चला आरा*

ब्यूरो सनशाइन समय गोन्डा

 

गोन्डा/ प्रदेश सरकार का सपना कैसे होगा साकार सन् 2022- 23 तक 35 करोड़ वृक्षारोपण कराने‌का सपना है प्रदेश के योगी सरकार का,वन विभाग के लोगों द्वारा लगाया जा रहा है चुना।जब पुराने प्रतिबंधित हरे भरे बृक्षो को बिना किसी रोक-टोक काटा जाएगा तो सरकार का सपना कैसे होगा पूरा। गोन्डा जनपद के वन रेंज क्षेत्र पंडरी कृपाल अन्तर्गत बिशुनपुर बैरिया में लगातार कई दिनों से प्रतिबंधित बृक्षो की कटान धड़ाधड़ हुआ जिम्मेदार अधिकारी जानकर भी बने रहे अनजान, किसी भी सवाल का जवाब न देना, कार्यवाही पर मौन रहना,सूचना देने वाले लोगों का मोबाइल नंबर और नाम कटान करने वाले ठेकेदारों को देकर दबाव बनवाना यह सब अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत को प्रमाणित करता है। जान कर भी अंजान बन कर प्रतिबंधित वृक्षों की कटान में पूरी छूट व मिलीभगत कर वन विभाग को खोखला कर रहे हैं वन विभाग के ही अधीनस्थ कर्मचारी। जहां एक तरफ सरकार की नीति है ना खाएंगे ना खाने देंगे ऐसे में नियम व कानून को ताख पर रखकर लकड़ी के ठेकेदार बृक्षो को धराशाई करने का श्रेय वन विभाग को देते हैं तथा पुलिस व वन विभाग की मिलीभगत के कारण पेड़कटवा ठेकेदार इतने मनबढ और निडर हो गए हैं कि अधिकारी,कर्मचारी के साथ सूचना देने वालों से भी गाली गलौज व धमकी आदि देने से नहीं चूकते हैं।इसी तरह रह गया तो योगी सरकार की हरा भरा हो प्रदेश अपना का सपना जल्द ही जनपद में टूट जाएगा।लगातार प्रतिबंधित तरह-तरह के वृक्षों की कटान होने से और सूचना के बाद भी कार्रवाई न होने पर लोगों में चर्चा है कि नवांगत प्रभागीय वनाधिकारी गोंडा के जनपद में आने और कार्यभार ग्रहण करने से कुछ ज्यादा ही हरे भरे वृक्ष बिना परमिट की कटान के शिकार हो गए हैं और उनके कर्मचारी निडर जो किसी भी जानकारी देने वाले का मोबाइल नंबर और‌ नाम सार्वजनिक कर ठेकेदारों से दबाव बनवाते हैं। इससे लगता है कि दबाव में आने से सूचना देने वाले स्थानीय लोग अवैध कटान की जानकारी किसी को न दें।अब देखना है कि कार्यवाही किस पर होगी।

Vk Soni

सनशाइन समय संवाददाता

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: